रानीवाड़ा : विपुलसिंह की आत्महत्या या हत्या! पिता ने नामजद दो जनों के खिलाफ हत्या का करवाया मामला दर्ज

  • 26 जुलाई को घर से निकला था, दूसरे दिन जाखड़ी सरहद में रेल से कटा मिला था शव
    रानीवाड़ा.
    26 जूलाई को घर से लापता होने के बाद दूसरे दिन जाखड़ी सरहद में रेल की पटरी मिले विपुलसिंह की मौत मामले में अब एक नया मोड़ आया हैं। मृतक विपुलसिंह के पिता ने नामजद दो जनों के खिलाफ हत्या करने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज करवाया। पुलिस के अनुसार मृतक विपुलसिंह के पिता वागसिंह ने रिपोर्ट में बताया कि मेरा सबसे छोटे पुत्र विपुलसिंह बाइक लेकर 26 की शाम 6 बजे जाखड़ी जाकर आने की बात कहकर निकला था। आप खाना बनाकर रखना। उस समय घर पर मेरा पुत्र अजमलसिंह, हीतुसिंह व मैं खुद था। मेरी पत्नी धानेरा गई हुई थी। करीब 9 बजे मेरे पुत्र हीतुसिंह ने विपुलसिंह के मोबाइल पर कॉल कर कहा कि अभी कहां हो, घर पर आ जाओ। हीतुसिंह के हाथ की पट्टी बंधवाने जाना है। फोन पर विपुलसिंह ने कहा कि मैं घर आ रहा हूं। उसके बाद वह घर नहीं आया। रात 10 बजे जब मेरी पत्नी व मेरे जवाई कालुसिंह घर पर आए तो विपुल के घर नहीं आने पर चिंता करने लगे। उसको फोन किया तो उसका मोबाइल भी बंद आ रहा था। सुबह 8 बजे मेरे घर पर गांव के रेवतसिंह आए और कहा कि विपुल का एक्सीडेंट हो गया है। उसे चोट लगी है, इसलिए साथ चलो। रेवतसिंह, हीतुसिंह के साथ गया व उसके बाद मेरी पत्नी नरपतसिंह व ईश्वरसिंह रतनपुर रेलवे पटरी पर गए। जहां पर आरोपियों ने मेरे पुत्र विपुलसिंह की हत्या कर उसे पटरी पर फैंककर आत्महत्या का रूप दिया। घटना स्थल पर पड़े मेरे पुत्र के मोबाइल की दो सिम व मेमोरी कार्ड ईश्वरसिंह पुत्र वीरसिंह निवासी मांडवला ने निकाल ली।
  • पिता ने दो आरोपियों पर लगाया पुत्र को मारने का आरोप
    मृतक के पिता ने बताया कि मांडवला निवासी युवती से विपुल का बीच प्रेम प्रसंग था तथा आपस में मोबाइल पर बातचीत होती थी। डूंगंरसिह व ईश्वरसिह को उक्त प्रसंग मामलों को लेकर कई बार मेरे पुत्र को जान से मारने की धमकी भी दी थी। इसी प्रेम प्रसंग प्रकरण में आरोपियों ने पहले मारकर उसे पटरी पर फेंक दिया। पुलिस ने मामला दर्ज कर मृतक के कॉल डिटेल के आधार पर जांच शुरू की।

Leave a Comment

Your email address will not be published.